April 26, 2019
Home हिलमेल

हिलमेल

hillmail Logo (एक अभियान ! पहाड़ों की ओर लौटने का)

हिल-मेल (एक अभियान ! पहाड़ों की ओर लौटने का) वेबसाइट ने सफलतापूर्वक छः वर्ष का सफर पूरा कर लिया है इस वेबसाइट का शुभारम्भ 2012 को किया गया। इसके बाद दिल्ली के कांस्टीट्यूसन क्लब में 1 मार्च 2013 को उत्तराखंड के निवर्तमान मुख्यमंत्री श्री हरीश रावत, पूर्व मुख्यमंत्री मेजर जनरल भुवनचन्द्र खंडूड़ी और पूर्व नौसेना अध्यक्ष एडमिरल डी के जोशी ने संयुक्त रूप से हिल-मेल वेबसाइट का विधिवत शुभारम्भ किया। इन पांच सालों में हिल-मेल ने पहाड़ से जुड़े मुद्दों को इस पोर्टल और पत्रिका के माध्यम से बखूबी उठाने का काम किया है।

हिल-मेल कई सालों से सेमीनार और विचार गोष्ठियों का आयोजन करती रही है। 1 मार्च 2014 को हिल-मेल ने केदारनाथ आपदा को लेकर ऋषिकेष में एक सेमीनार का आयोजन किया था। उसके बाद 9 मई 2015 को कांस्टीट्यूसन क्लब, नई दिल्ली में एक विचारगोष्ठी का आयोजित किया गया। इस सेमीनार में उत्तराखंड के मुख्यमंत्री समेत कई वक्ताओं ने पहाड़ में आपदा से निपटने को लेकर अपने विचार व्यक्त किए। इस मौके पर हिल-मेल ने ‘‘केदारनाथ आपदा और आगे का रास्ता’’ नाम से एक विजन डॉक्यूमेंट प्रस्तुत किया।

हिल-मेल ने 30 जनवरी 2016 को दिल्ली के इंडिया इंटरनेशनल सेंटर में ‘केदारनाथ टूरिज्म समिट 2016’ का आयोजन किया। इस समिट में बड़ी संख्या में प्रवासी उत्तराखंडी, प्रबुद्धजन, आपदा विशेषज्ञ, आपदा के समय सेना के राहत व बचाव अभियान का नेतृत्व करने वाले शीर्ष सैन्य अधिकारी, मीडियाकर्मी और उत्तराखंड में विभिन्न सरोकारों से जुड़े लोग शामिल हुए। इस दौरान केदारनाथ के उत्थान और पुनर्निर्माण को लेकर एक डॉक्यूमेंट्री भी रिलीज की गई। इसके साथ ही उत्तराखंड के विकास और सरोकारों को समर्पित ‘हिल-मेल पत्रिका’ का भी विमोचन किया गया। समिट के दौरान केदारनाथ में चलाए जा रहे पुनर्निर्माण कार्यो पर एक चित्र प्रदर्शनी भी रखी गई थी।

इस पोर्टल और पत्रिका के माध्यम से हमारा प्रयास जनमानस की आवाज को सही स्तर तक पहुंचाना है। हम पहाड़ की जनता की आवाज तो बनेें ही साथ ही उसे हर उस जानकारी से रूबरू करवाएंगे जो उसकी दिनचर्या से जुड़ी है। हमने कोशिश की है कि हिल-मेल पहाड़ से जुड़े जनमानस के बीच एक मंच और एक अभियान के रूप में आगे बढ़े।

हिल-मेल प्रयत्न कर रहा है कि हिमालय के आंचल में रोजाना की घटने वाली सामाजिक, आर्थिक, राजनीतिक, धार्मिक और दैवीय घटनाओं की जानकारी जल्दी से जल्दी लोगों को मिलती रहे। हिल-मेल द्वारा भारतीय सेना और समस्त सुरक्षा बलों के बारे में भी जानकारियां दी जा रही हैं।

हिल-मेल के माध्यम से हमारा प्रयास है कि हम पहाड़ से दूर रह रहे लोगों को अपने पहाड़ की ओर लौटने लिए प्रेरित करें और प्रवासी उत्तराखंडी अपनी मातृभूमि की ओर लौटे और पहाड़ में अपने घर गांव लिए कुछ न कुछ योगदान करें।

– टीम हिलमेल

….. www.hillmail.in

  1. My heartly congratulations to all those who were directly or indirectly involved to launch this beautiful,innovative and informatic site.

    Thanks,

    Atul Joshi

  2. hemant sachdev says:

    All of us need to join together to make our nation progressive. Hillmail.com is an ideal platform to make our voice heard by those who matters

  3. Manorama Bhatt says:

    chalo achcha hai uttrakand ki ek nai website launch hui hai saare hillmail.in privaar ko badhai ho

  4. सतेन्द्र सिह नेगी says:

    उत्तरांखड की जानकारी एवं संस्कृति से सम्बन्धित इस वेबसाईट के लिए हिलमेल टीम को मेरी तरफ से शुभकामनाएँ एवं बधाई।

  5. manoj semwal says:

    Three week long Nanda Devi Raj Jat is one of the world famous festivals of Uttaranchal in India.[1] People from entire Garhwal division-Kumaon division as well as other parts of India and the world participate in Nanda Devi Raj Jat Yatra.[2]
    Goddess Nanda Devi is worshipped at dozens of places in Kumaon, but the region around Mt. Nanda Devi and its sanctuary, which falls in the Pithoragarh district, Almora district and Chamoli district, is the prime area related to Nanda Devi. In Chamoli Nanda Devi Raj Jaat is organized once in 12 years. The Jaat starts from Nauti village near Karnprayag and goes up to the heights of Roopkund and Homekund with a four horned sheep. After the havan – yagna is over, the sheep is freed with decorated ornaments, food and clothing’s and the other offerings are dischared.When, the sheep with four Horns take birth, then the Nanda Devi Raj Jaat is planned.People also celebrate the annual Nanda Jaat.The Raj Jaat procession goes from all villages, where there is a Nanda Devi temple of recognition, specially at Koti a night halt of the participants is planned, where throughout the night worship and celebrations goes on.
    Though in the Johar Valley region there is no tradition of Nanda Raj Jaat but the worship, dance and the ritual of collecting Bramhakamal (it is called Kaul Kamphu) is part of Nanda festivals.
    The Nanda Devi fair is held at Almora, Nainital, Kot (Dangoli), Ranikhet, Bhowali, Kichha and also in the far flung villages of lohar (like Milam and Martoli) and Pindar valleys (like Wachham and Khati). In the villages of the Pinder valley people celebrate the Nanda Devi Jaat (journey) every year, while in lohar people come from far and wide to Danadhar, Suring, Milam and Martoli in order to worship the Goddess. In Nainital and Almora thousands take part in the procession carrying the dola (or litter) of Nanda Devi. It is said that the Nanda Devi fairs started in Kumaon during the reign of Kalyan Chand in the 16th Century. A three day fair is held at Kot ki mai or Kot bhramari devi. The fair at Saneti comes every second year. Both these fairs are rich in folk expressions and many village products are brought for sale.

  6. Diwan Singh Tilara says:

    My best wishes and congratulatiion to all hillmail.in team for this great job

    Uttrakhand is a very peace & beautiful state .

  7. Rajshree Dhapola Joshi says:

    Many Many Congratulations to the entire “hillmail” team, I wish it achieves its goal ! We all Uttarakhandis should come ahead to make its dream come true.

  8. Commander SC Joshi (Retd) says:

    I would like to whole heartedly congratulate Team Hillmail Portal for their noble vision and wish them all the best in their future efforts in achieving their goal. It will be my honour and priviledge to be associated with the team through sharing of our views for our common goal. I feel this is the right step in the right direction. Regards.

  9. Commander SC Joshi (Retd) says:

    I whole heartedly convey my congratulations to Team Hillmail Portal for their noble vision. I also wish them all the success in their future endeavours to achieve their set goals. It will be my honour and priviledge to be associated with the team and share our views on the developmental issues concerning the state. Regards

  10. Rakesh Chander Pasbola says:

    I read your april 2016 magazine it was very informative regd utrakhand development. Gud work by hill mail team. Rakesh chander pasbola. Mobile 9819293944O

  11. rakesh chander pasbola says:

    Very gud website and very informative regd our utrakhand, i am very much impressed. keep it up hill mail team. rakesh chander pasbola. 9818293944

  12. ओम प्रकाश उनियाल says:

    उत्तराखंड की समस्त जानकारियों का वृहद खजाना है हिल मेल।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered By Indian Cyber Media Technology