चारधाम यात्रा का शुभारम्भ

The Prime Minister, Shri Narendra Modi prayed at the Kedarnath Temple, 1..उत्तराखंड की खुबसूरत वादियों में हर साल गर्मियांे के महीनों में चारधाम यात्रा शुरू हो जाती है। इस साल 28 अप्रैल को गंगोत्री और यमनोत्री के कपाट खुले। उसके बाद 3 मई को केदारनाथ के कपाट खुले और उसके बाद 6 मई को बदरीनाथ के कपाट भी खुल गये। इन चारों धामों के कपाट खुलने से उत्तराखंड में अब यात्रा का सीजन शुरू हो गया है।

2
3 मई को केदारनाथ के कपाट खुलने पर स्वयं देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वहां मौजूद रहे। कपाट खुलने के करीब 15 मिनट बाद सबसे पहले दर्शन करने पहंुचे नरेंद्र मोदी ने गर्भगृह में भगवान शिव का रुद्राभिषेक किया। इसके पश्चात केदारनाथ मन्दिर समिति द्वारा उन्हें स्मृति चिन्ह भेंट किया।

इस अवसर पर राज्यपाल डाॅ कृष्ण कान्त पाल तथा मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत मौजूद थे। मोदी देश के तीसरे प्रधानमंत्री हैं जो इस पद पर रहते हुए केदारनाथ पहंुचे हैं। उनसे पहले स्व. इन्दिरा गांधी एवं वी.पी. सिंह प्रधानमंत्री के तौर पर केदारनाथ दर्शन के लिए आ चुके हैं।

President visit Badrinath temple6 मई को बद्रीनाथ के कपाट भी खुल गये इस दिन देश के राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी भगवान बद्रीविशाल के दर्शन करने पहुंचे। राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने बदरीनाथ मंदिर के गर्भगृह में जाकर भगवान की पूजा अर्चना की। श्रद्धालुओं के लिए बदीरनाथ मंदिर के कपाट खुलने के साथ ही चार धाम यात्रा पूरी तरह से शुरू हो चुकी है। राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी देश के पांचवें राष्ट्रपति हैं जिन्होंने बाबा बदरीनाथ के दर्शन किये हैं। उनसे पहले डा राजेंद्र प्रसाद और प्रतिभा देवी सिंह पाटिल भी बदरीनाथ के दर्शन कर चुके हैं।

President with CMकपाट खुलते ही भगवान बदरी विशाल के जयकारों से बदरीनाथ धाम गूंज उठा। इस दौरान सेना के बैंड की धुन के साथ ही श्रद्धालु भगवान के जयकारे लगाते रहे। इस मौके पर हजारों की संख्या में श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ी थी। प्रणव मुखर्जी ने छोटा राष्ट्रपति भवन में थोड़ा विश्राम किया। उसके बाद मंदिर समिति और मुख्यमंत्री ने उन्हें बदरीनाथ का स्मृति चिन्ह भेंट किया। जब राष्ट्रपति वहां से बाहर निकले तो उन्होंने हाथ हिलाकर जनता का अभिवादन स्वीकार किया। अब आगामी छह माह तक उत्तराखंड में चार धाम यात्रा चलती रहेगी।

4यह उत्तराखंड के लोगों के लिए काफी गौरवान्वित क्षण है जब भारत के प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति का चारधाम यात्रा की शुरूआत में आना हुआ। इससे इस यात्रा में आने वाले श्रद्धालुओं में विश्वास पैदा होगा। चारधाम यात्रा में अगर ज्यादा से ज्यादा श्रद्धालु आयेंगे तो इससे यहां के लोगों की आर्थिक स्थिति सुधरेगी।

भारत में इन चारों धार्मिक स्थलों को काफी पवित्र माना जाता है। भगवान बद्रीविशाल का पवित्र स्थल बद्रीनाथ धाम चमोली जिले में, भोले बाबा का पवित्र धाम केदारनाथ रुद्रप्रयाग जिले में, जीवनदायिनी गंगा नदी का उद्गम स्थल गंगोत्री और यमुना नदी का उद्गम स्थल यमुनोत्री दोनों उत्तरकाशी जिले में हैं।

हिन्दू धर्म के अनुयाइयों के लिए इन चारों धामों की यात्रा करने का काफी महत्व है। कहा जाता है कि इन धामों की यात्रा करने से श्रद्धालुओं के समस्त पाप धुल जाते हैं और जब उनकी मृत्यु होती है तो उनकी आत्मा को मुक्ति मिल जाती है।
हिल मेल ब्यूरो

This entry was posted on Wednesday, May 3rd, 2017 at 5:47 pm and is filed under समाचार. You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0 feed. You can leave a response, or trackback from your own site.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>

Powered By Indian Cyber Media Technology