Home Archive by category Exclusive

Exclusive

Exclusive
– गुस्सैल हाथियों को रोकने के लिए रामनगर वन प्रभाग की ओर से पिछले दिनों को कुछ जरूरी कदम उठाए गए हैं। लोगों की मांग पर सड़क के दोनों ओर गढ्ढे-खाई जैसे बना दिए हैं। जिससे हाथी सड़क पर न आ सकें। उन्हें डराने के लिए पटाखे लगाए गए हैं। हिल-मेल ब्यूरो, रामनगर हाथियों के […]Continue Reading
Exclusive
– अल्मोड़ा की जनसंख्या वृद्धि दर माइनस 1.64 प्रतिशत है। ग्रामीण आबादी में तो यह माइनस 4.20 प्रतिशत है। 20 से 49 वर्ष की आयु के 38 फीसदी लोग ही जिले में रहते हैं। कामकाजी आबादी तेजी से पलायन कर रही है।   हिल-मेल ब्यूरो, देहरादून   प्रकृति की अनुपम छटा से भरपूर अल्मोड़ा जैसे […]Continue Reading
Exclusive
पर्यटन स्थलों की कैपेसिटी को लेकर कभी कोई शोध नहीं किया गया। कभी यह पता लगाने की कोशिश नहीं हुई कि जिस हिल स्टेशन पर सैलानी जा रहे हैं, उसकी वेस्ट मैनेजमेंट की क्षमता क्या है। पर्यटकों की संख्या को नियंत्रित करने को लेकर नीति की कमी नजर आती है। वर्षा सिंह, देहरादून देश के […]Continue Reading
Exclusive
केदारघाटी की प्रलयंकारी आपदा की यादों को टूरिज्म के साथ जोड़ने की योजना पर विचार कर रही है उत्तराखंड सरकार। अमेरिका के ग्राउंड जीरो, फ्रांस की फ्लेम ऑफ लिबर्टी की तर्ज पर विकसित करने की योजना।   वर्षा सिंह, देहरादून   वर्ष 2013 में केदारनाथ में आई भीषण आपदा ने दुनियाभर का ध्यान अपनी ओर […]Continue Reading
Exclusive सरोकार
अभी कुछ तकलीफें, नतीजे बेहतरीन होंगे अनुराग पुनेठा भारतीय रेल एशिया का सबसे विशाल और दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा नेटवर्क है, जहां 23,000 गाड़ियां हर रोज चलती हैं। रेलवे हर रोज तकरीबन ढाई करोड़ यात्री और 3 मिलियन टन सामान को एक छोर से दूसरे छोर तक ले जाती है। रेलवे के 13,00,000 कर्मचारी […]Continue Reading
Exclusive
सीमा से सटे इलाकों में रहने वाले लोग देश की आंख-कान होते हैं। ये एक तरह के प्रहरी होते हैं, जो सेनाओं तक शुरूआती सूचनाएं पहुंचाते हैं। यदि वे यहां नहीं रहेंगे तो स्थिति चिंताजनक हो जाएगी। लेकिन सीमाई क्षेत्रों में सुविधाओं की कमी के चलते अब यहां से भी पलायन देखने को मिल रहा […]Continue Reading
Exclusive
उत्तराखंड की संस्कृति, भाषा, परंपराएं, तीर्थ, ऊंचे पहाड़ और मन की गहराइयों तक उतर जाने वाला नदियों और गदेरों का कल-कल निनाद हो या मंदिरों में बजने वाले शंख और घंटियों का अनहद नाद। पर्वतों की खामोशी हो या प्रकृति का अप्रतिम संगीत। पहाड़ की इस लय को दूर परदेस में बैठे हर व्यक्ति तक […]Continue Reading