होम

  • नम आंखों से गांव को निहारते रहे डोभाल

    नम आंखों से गांव को निहारते रहे डोभाल

    राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल 21 और 22 जून को दो दिन के निजी दौरे पर पौड़ी गढ़वाल पहुंचे। वह 23 साल बाद अपने पैतृक गांव घीड़ी में कुल देवता की पूजा में शिरकत करने पहुंचे थे। इससे पहले सर्किट हाउस में पत्रकारों से अनौपचारिक बातचीत में श्री डोभाल उत्तराखंड में विकास की धीमी रफ्तार ...

  • अजीत डोभाल: भारत का जेम्स बांड दाऊद इब्राहिम को उसके अंजाम तक पहुंचा पायेगा ?

    अजीत डोभाल: भारत का जेम्स बांड दाऊद इब्राहिम को उसके अंजाम तक पहुंचा पायेगा ?

    नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री पद की शपथ लेने से पहले ही अजीत डोभाल को राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार की जिम्मेदारी सौंपने की चर्चा शुरू हो गई थी। डोभाल ने गुजरात भवन में मोदी से मुलाकात की थी और देश के सामने मौजूद सुरक्षा चुनौतियों से उन्हें अवगत कराया था। भारत के सुरक्षा मुद्दों पर स्पष्ट नजरिया ...

  • केदारनाथ आपदा के एक साल बाद

    केदारनाथ आपदा के एक साल बाद

    केदारनाथ में आई प्राकृतिक आपदा उत्तराखंड ही नहीं देश की भीषणतम आपदाओं में से एक है। इस आपदा को आये एक साल पूरा हो गया है। पिछले साल 16 और 17 जून को केदार घाटी में आई तबाही के कारण हजारों लोगों का जनजीवन प्रभावित हो गया था। इस आपदा में हजारों लोग मारे गये ...

  • आपदा पीड़ितों पर मरहम लगाने की कोशिश

    आपदा पीड़ितों पर मरहम लगाने की कोशिश

    केदारनाथ प्राकृतिक आपदा के एक वर्ष पूरा होने पर उत्तराखंड सरकार ने आपदा पीडितों के लिए नई घोषणाएं की हैं। सरकार ने आपदा पीड़ितों को राहत पहुंचाने के लिए आपदा में मृतक आश्रितों को सरकारी नौकरी दिए जाने के साथ ही दो लाख की अतिरिक्त सहायता देने की भी घोषणा की। यही नहीं गैरसैंण में ...

  • पहले हर-हर गंगे-तभी होगा हर-हर मोदी

    पहले हर-हर गंगे-तभी होगा हर-हर मोदी

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने नामांकन भरने के दौरान एक भावुक बयान दिया था ‘न तो किसी ने मुझे भेजा है और न खुद आया हूं। मुझे मां गंगा ने बुलाया है।’ अब प्रधानमंत्री बनने के बाद सारा देश देख रहा है कि मोदी कैसे कलयुग के भागीरथ बनकर गंगा को नया जीवन देंगे। मोदी ...

  • क्या भोलेनाथ तोड़ेंगे केदारनाथ का सन्नाटा ?

    क्या भोलेनाथ तोड़ेंगे केदारनाथ का सन्नाटा ?

    पिछले साल मंदाकिनी नदी से आई प्रलय और इस बार भारी बर्फवारी के बीच 11वें ज्योर्तिलिंग भगवान केदारनाथ के कपाट 4 मई को श्रद्धालुओं के लिए खोल दिए गए हैं। लेकिन सवाल ये है कि क्या आम श्रद्धालु इस बार केदारनाथ के दर्शन कर पाएंगे। मंदिर तक पहुँचने का रास्ता 4 से 5 फीट बर्फ ...

  • उत्तराखंड की बेटी, सीडीएस परीक्षा में टॉप

    उत्तराखंड की बेटी, सीडीएस परीक्षा में टॉप

    उत्तराखंड की एक और बेटी ने इतिहास रचते हुए पूरे देश में अपने राज्य का नाम रोशन किया है। ऐश्वर्या बिष्ट ने संघ लोक सेवा आयोग की कंबाइंड डिफेन्स सर्विस (सीडीएस) परीक्षा में लड़कियों में आल इंडिया टॉप कर इतिहास रचा है। ऐश्वर्या देहरादून की रहने वाली हैं। ऐश्वर्या अब ऑफिसर्स ट्रैनिंग कॉलेज, चेन्नई में प्रशिक्षण ...

  • केदारनाथ आपदा के बाद आगे का रास्ता

    केदारनाथ आपदा के बाद आगे का रास्ता

    हिलमेल - (एक अभियान पहाड़ों की ओर लौटने का) वेबसाइट द्वारा 1 मार्च को ऋषिकेश में ‘केदारनाथ आपदा के बाद आगे का रास्ता’ विषय पर एक विचार गोष्ठी आयोजित की गयी। हिलमेल के एक साल पूरा होने पर आयोजित इस गोष्ठी में केदारनाथ आपदा के आठ महीनों के हालात और केदारघाटी में हुए कार्यों की ...

  • उत्तरकाशी में होगी एवरेस्ट टीवी शो की शूटिंग

    उत्तरकाशी में होगी एवरेस्ट टीवी शो की शूटिंग

    एवरेस्ट पर टीवी शो की शूटिंग के सिलसिले में उत्तरकाशी पहुंचे बॉलीवुड के प्रख्यात निर्माता निर्देशक आशुतोष गोवारिकर यहां के प्राकृतिक सौंदर्य से अभिभूत नजर आए। एनआईएम में आयोजित पत्रकार वार्ता में गोवारिकर ने कहा कि वे पहली बार उत्तराखंड आए हैं। प्राकृतिक तौर पर खूबसूरत लोकेशन के लिए बॉलीवुड में जम्मू कश्मीर और हिमाचल ...

  • बर्फीले पहाड़ों के योद्धा

    बर्फीले पहाड़ों के योद्धा

    शून्य से नीचे के तापमान में बर्फ से ढके पहाड़ों में चीन और पाकिस्तान के मुकाबले के लिए खास योद्धा तैयार हो रहे हैं। लेह लद्दाख की पहाड़ियों से लेकर अरुणाचल तक चीन की बढ़ती हिमाकत का जवाब देने के लिए भारत ने माउंटेन स्ट्राइक कोर बनानी शुरू कर दी है। ये कोई आम सैनिक ...

  • प्रलय के 6 महीने बाद भी केदारघाटी में जीवन और मौत का संघर्ष

    प्रलय के 6 महीने बाद भी केदारघाटी में जीवन और मौत का संघर्ष

    केदारनाथ में आई प्रलय को 6 महीने का वक्त हो चुका है। इन 6 महीनों में जमीनी हालात कितने बदले हैं इसका जायजा लेने के बाद पता चला कि केदारघाटी के हालात दिल दहला देने वाले हैं। गोद में एक महीने का बच्चा और कड़कड़ाती ठण्ड के बीच लोग खुले आसमान के नीचे रात गुजारने ...

  • विनोद कापड़ी की ‘मिस टनकपुर हाजिर हो’

    विनोद कापड़ी की ‘मिस टनकपुर हाजिर हो’

    विनोद कापड़ी हिंदी टीवी न्यूज की दुनिया में जाना पहचाना नाम है। विनोद कापड़ी को टीआरपी का खिलाडी माना जाता है। जनता की नब्ज पहचानने और टीवी न्यूज को नयी पहचान देने में उनका बडा हाथ है। ये विनोद कापड़ी की काबलियत ही है जिसके चलते उन्होने 3 बडे चैनलों को नंबर तक पहुचाया है। ...

  • हर मोर्चे पर सबसे आगे पैरा कमांडो

    हर मोर्चे पर सबसे आगे पैरा कमांडो

    कैसे बनते हैं स्पेशल फोर्स के पैरा कमांडो। दुश्मन के इलाके में घुसकर घात लगाकर हमला करना हो या आतंकवादियों के खिलाफ स्पेशल ऑपरेशन आसमान से छलांग लगाने वाले ये पैरा कमांडो हर मोर्चे पर सबसे आगे हैं। आज देश की सेनाओं के पास आसमान से धावा बोलने वाले दो हजार घातक पैरा कमांडो हर ...

  • युवाओं के सपने को साकार करने में लगे कर्नल कोठियाल

    युवाओं के सपने को साकार करने में लगे कर्नल कोठियाल

    उत्तराखंड में जून के महीने में आई आपदा में नेशनल इंस्टीट्यूट आफ माउंटेनियरिंग (एनआईएम) उत्तरकाशी ने आपदा के दौरान कई इलाकों में फंसे हजारों भारतीय व विदेशी यात्रियों और पर्यटकों को सुरक्षित निकालने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। इस साल केदारनाथ जाने वाले श्रद्धालुओं को बड़ी परेशानी का सामना करना पड़ा। यहां पर हमें जो जल ...

  • हिलरत्न

    हिलरत्न

    एक अभियान... पहाड़ों की ओर लौटने का, हिलमेल के शानदार उद्घाटन के मौके पर अपने अपने कार्यक्षेत्र में उत्तराखंड का नाम रोशन करने वाले उत्तराखंड के सपूतों को सम्मानित किया गया। इनमें नौसेना प्रमुख एडमिरल डी के जोशी, इंडियन ऑयल कार्पोरेशन के चेयरमैन आर एस बुटोला, कोस्टगार्ड के अतिरिक्त महानिदेशक राजेन्द्र सिंह, गढ़वाल रेजीमेंट के ...

  • हिलमेल का शुभारम्भ: पहाड़ों की ओर लौटने का एक अभियान

    हिलमेल का शुभारम्भ: पहाड़ों की ओर लौटने का एक अभियान

    लगभग एक साल के अथक प्रयासों के बाद हिलमेल वेबसाइट की विधिवत शुरुआत हो गयी है। 1 मार्च 2013 को दिल्ली के कांस्टीटूशन क्लब में नौसेना प्रमुख एडमिरल डी के जोशी ने बटन दबाकर हिलमेल पोर्टल का शुभारम्भ किया। इस अवसर पर केन्द्रीय जल संसाधन मंत्री श्री हरीश रावत उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री मेजर जनरल ...

 

संवाद

राष्ट्रपति प्रतिभा देवीसिंह पाटिल रिटायरमेंट के बाद भी जनता की सेवा के अपने काम को जारी रखेंगी…

पांच साल से राष्ट्रपति और उससे पहले लगातार राज्यपाल रहते हुए राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल को लगता है कि कहीं न कहीं वह अपने परिवार को उतना समय नहीं दे सकीं जितना देना चाहिए था…. राष्ट्रपति पाटिल अब अपना समय अपने नाती-पोतों के साथ व्यतीत करना चाहती हैं…. बहरहाल राष्ट्रपति पाटिल जनता की सेवा के अपने काम को आगे भी जारी रखेंगी… प्रतिभा पाटिल मानती हैं कि राष्ट्रपति जैसे सर्वोच्च पद पर एक महिला का पदासीन होना महिलाओं के लिए सम्मान की बात है…. इसके अलावा सेना के सर्वोच्च कमांडर होने के नाते सुखोई विमान पर बैठने के अनुभव को वह सुखद अनुभव के रूप में याद करती हैं…राष्ट्रपति प्रतिभा देवीसिंह पाटिल ने हिलमेल वेबसाईट को बधाई देते हुए हिलमेल के मानद सचिव मनजीत नेगी से ख़ास बातचीत की….. पेश है बातचीत के खास अंश -

हिलरत्न – कर्नल कोठियाल को विशिष्ट सेवा मेडल
चौथी  गढ़वाल राईफल्स में तैनात कर्नल अजय कोठियाल को सरकार ने विशिष्ट सेवा मेडल (वीएसएम) देने की घोषणा की है। कर्नल को यह सम्मान विश्व की आठ सबसे ऊंची चोटियों में से एक मनास्लु को फतह करने के लिए दिया गया है। कर्नल कोठियाल के नेतृत्व में गई टीम ने पिछले साल इस 8163 मीटर ऊंची चोटी को फतह किया था। इस मामले में खास बात यह है कि कर्नल कोठियाल को जम्मू-कश्मीर के पीर पंजाल क्षेत्र में पूर्व में एक मुठभेड़ में सात आतंकवादियो को मार गिराने के लिए दूसरे बड़े वीरता पुरस्कार किर्ती चक्र से नवाजा गया था।….. अधिक पढ़े

 

 

 
 

1
2
3
4
5

Comments are closed.